Saturday, 14 January 2017

, , , ,

मालशेज घाट खूबसूरतियों से भरा स्थल

Malshej ghat
 हर मौसम में खूबसूरत मालशेज घाट प्रकृति प्रेमियों, ट्रेकर्स, साहसिक पर्यटक प्रेमियों और तीर्थ यात्रियों, सभी को समान रूप से लुभाता है,,,
 
मुंबई की हलचल से दूर मात्र साढ़े तीन घण्टे की यात्रा के बाद अप्रतिम सौदर्य से परिपूर्ण प्रकृति की गोद में स्वयं को पाना एक कौतूहलपूर्ण आशचर्य लगता है, मंजर मालशेज घाट की यही खासियत है। मुंबई से आधी दुरी तय करने के बाद से ही मोहकता की पृष्टभूमि बनने लगती है। आप छोटे-छोटे झरने, जलप्रपात, हरे-भरे  खेत, पर्वतश्रेणियां, काले अंगूर, केले आदि के फार्म, खूबसूरत जंगल व झील का नजारा लेते हुए यहां पहुंचते हैं। तीन घण्टे कैसे बीत जाता है, पता ही नहीं चलता। वनों, पर्वतों और झरनों से लकदक मालशेज घाट ट्रेकर्स के लिए स्वर्ग से कम नहीं है। यह गंतव्य हर एक ट्रेकर्स के लिए खूबसूरत अनुभव है। यह एक ऐसा पर्वतीय स्थल है, जहां किसी भी मौसम में जाइए आप प्रकृति के रंग-रूप देख मुग्ध हो जाएंगे और यहां की खूबसूरती में को जाएगे। मगर मानसून में यहां सौन्दर्य देखते बनता है, बादल आपके संग चलते हुए प्रतीत होंगे।
महाराष्ट्र के पुणे जिले के पशिचमी घाटों की श्रेणी में स्थित हिअ प्रसिद्ध मालशेज घाट। समुद्र तल से 700 मीटर की उचाई पर स्थित मालशेज एक बेहद आकर्षक पर्वतीय पर्यटन स्थल है, जो आम पर्यटकों के अलावा प्रकृति प्रेमियों, हाइकर्स, ट्रेकर्स इतिहासकारों एवं तीर्थयात्रियों को समान रूप से लुभाता है। वीकेंड या दो-तीन दिन की यहां की यात्रा के बाद आप कई महीनों तक अपने को तरोताजा महसूस करेंगे। इतना ही नहीं, आपको यहां पर्यटन की विविधताओं का भी लुत्फ़ मिलेगा।
मालशेज घाट में ठहरने के लिए यहां सबसे ऊंचाई पर स्थित महाराष्ट्र पर्यटन विभाग का गेस्ट हाउस भी एक बेहतरीन जगह पर है। गेस्ट हाउस के परिसर में घूमते हुए आप पर्वतों एवं घाटियों के सौन्दर्य का आनंद ले सकते हैं। फोटोग्राफी क्र सकते हैं। परिसर के पीछे अनेक हिल प्वाइंट, जैसे-कोंकण, वाटर रिवर्स प्वाइंट, हरिशचन्द्र प्वाइंट, कालू आई प्वाइंट, मालशेज प्वाइंट, आदि बने हुए हैं, और उसके पीछे सघन वन है। यहां से निचे की और गहरी  घाटियों को और मई से सितंबर  महीनों में अनेक जलप्रपातों के सौंदर्य को निहारा जा सकता है। मालशेज घाट और इसके आसपास भीम नदी प्रवाहित होती है। यहां  की झीलों में और आसपास सफेद एवं नारंगी फ्लेमिंगो को देखना एक अनूठा अनुभव है, जो दूसरी जगह दुर्लभ है। इसी प्रकार और भी कई खूबसूरत प्रवासी पक्षी यहां की प्रकृति में रमने के लिए आते हैं। मालशेज घाट कोंकण और डक्कन के पठार को जोड़ने वाला सबसे पूराना मार्ग है, इसलिए यह विश्वास किया जाता है कि बौद्ध भिक्षुयों ने यहां थोड़ी दूरी पर स्थित लेनयाद्रि में गुफा मंदिरों का निर्माण कराया।
मालशेज घाट के आसपास मात्र एक घण्टें कि ड्राइव के बाद कई आकर्षक स्थल हैं। इनमें अष्टविनायक मंदिर, शिवजी कि जन्म स्थली, नैने घाट, जीवधन और कुछ जल प्रपात प्रमुख हैं। 


श्री विघ्नेश्वर ओजार:
मालशेज घाट से 35 किमी. की दूरी पर स्थित जुन्नार शहर के निकट ओजार में श्री विघ्नेश्वर अष्टकविनायक मंदिर स्थित है। यह मान्यता है कि इस मंदिर के भगवान गणपति की मूर्ति स्वयंभू है। वर्ष 1833 में इस मंदिर का निर्माण कराया गया था। यह मंदिर प्रांगण में स्थित दीपमाला और अपने स्वर्ण गुंबद के लिए मशहूर है। पूरब की ओर मुख किए यह मंदिर चारों ओर से पत्थर की मजबूत दीवारों से घिरा है। यहां दृश्य भी मोहक है। बड़ी-सी झील भी है, जहां बोटिंग की व्यवस्था है। यह एक आदर्श पिकनिक स्थल भी है।

गिरिजात्मज लेनयाद्रि:
मालशेज घाट से 25 किमी. और शिवनेरी से 10 किमी. की दूरी पर स्थित है गिरिजात्मज विनायक मंदिर। अष्टविनायक मंदिरों में से लेनयाद्रि स्थित अष्टविनायक ही केवल पहाड़ों पर स्थित है। यहां बौद्ध गुफाएं भी हैं। लेनयाद्रि कुकड़ी नदी के उत्तर-पश्चिम में स्थित है। यहां 18 बौद्ध गुफाएं हैं। गिरिजात्मज विनायक मंदिर की आठवीं गुफा भी दर्शनीय है। दरअसल, यहां का संपूर्ण वातावरण,पर्वत शृंखलाएं, गुफाएं जादुई-सी प्रतीत होती हैं।

शिवनेरी:

shivneri-fort
सिर्फ महाराष्ट्र ही नहीं, बल्कि भारत के इतिहास में भी शिवनेरी का विशेष स्थान है, क्योंकि यह महाराज शिवाजी की जन्मस्थली है। सैकड़ों खड़ी चट्टानी सीढिय़ां चढऩे के बाद इस स्थान पर पहुंचना भी एक उपलब्धि है। यहां एक छोटा कमरा है, जहां शिवाजी का जन्म हुआ था। यहां पर उनका पालना सुरक्षित रखा गया है। इसे कई लोग शिवाजी का मंदिर मानते हैं और एक तीर्थस्थल की तरह ही यहां भी कुछ लोग समूह में शिवाजी की जयकार करते हुए इतनी ऊंचाई तक पहुंचते हैं। शिवनेरी की बौद्ध गुफाएं तीसरी सदी की हैं।

हरिश्चंद्रगढ़:

Kedareshwar
 ट्रैकिंग के लिहाज से हरिश्चंद्रगढ़ का अपना महत्व है। यह काफी लंबा और कठिन ट्रैक भी है, इसलिए गर्मियों में यहां ट्रैकिंग नहीं करें, तो बेहतर होगा। यहां की ट्रैकिंग के लिए खिरेश्वर गांव उपयुक्त बेस माना जाता है। इसके अलावा, पचनाई और कोठाले को भी बेस बनाया जा सकता है।

जीवधन:
जीवधन भी एक कठिन ट्रैकिंग रूट है। प्राचीन काल में नैनेघाट एक प्रमुख व्यापारिक मार्ग था और सुरक्षा की दृष्टि से यहां किलों का निर्माण किया गया था। यह क्षेत्र जीवधन, हदसर, महिषगढ़ और चावंड से सुरक्षित किया गया था। जीवधन वंदारलिंगी के कारण भी प्रसिद्ध है।

पिपलगांव जोग बांध:

इस रमणीय स्थल में विविध सुंदर प्रवासी पक्षियों को देखने का मौका मिलता है। धवल नदी और घने वन से सुसज्जित यह स्थान पक्षी प्रेमियों के लिए बेहतरीन है।

मालशेज घाट जाने का सबसे बेहतर मार्ग है

मुंबई-कल्याण-घाटघर-मालशेज निकटतम रेलवे स्टेशन कल्याण (90 किमी.), थाणे (112 किमी.), पुणे (116 किमी.) निकटतम हवाई अड्डा पुणे (116 किमी.), मुंबई (136 किमी.) प्रमुख शहरों से दूरियां थाणे (112 किमी.), नवी मुंबई (130 किमी.), पुणे (116 किमी.), मुंबई (136 किमी.) उपयुक्त मौसम यहां की खासियत है कि पूरे साल खुशनुमा मौसम रहता है, मगर जून से सितंबर तक यहां घूमने का अलग ही रोमांच है।
Share:

0 comments:

Post a Comment