Thursday, 16 March 2017

, ,

एशिया के नेचुरल वंडर जहां छिपे हैं कई रहस्य

zhangye-danxia-landform
विश्व भर के सैलानी ताज का दीदार करने भारत खिंचे चले आते हैं। इसमें कोई शक नहीं कि ताजमहल एशिया के सिरमौर की भांति है, लेकिन जब हम इंडोनेशिया, जापान, वियतनाम, चीन, हांगकांग, नेपाल, कंबोडिया, सिंगापूर आदि राष्ट्रों की प्राकृतिक एवं मनोरम वादियों, गुफाओं, ज्वालामुखी पर नजर डालते हैं, तो यही अहसास जगता है कि कितना कुछ दबा है एशियाई महाद्वीप के गर्भ में। ऐसे में जिन्होंने भी विश्व भ्रमण का सपना संजो रखा है, वे एक बार इन स्थानों पर सफर जरूर करें...

झांग्ये डांक्सिया लैंडफॉर्म, चीन
डांक्सिया लैंडफॉर्म का दृश्य किसी चित्रकला के समान देखकर आप हैरान रह जाएंगे। ऐसा प्रतीत होता है कि किसी चित्रकार ने अपनी कल्पना की उड़ान से यहां ऑयल कलर से रंग भर दिए हों। यहां अनेक रेड क्लिफ़्स हैं, जो सैकड़ों मीटर ऊंचे हैं। रंगों में भी काफी विविधता है। कई सदी पूर्व टेक्टोनिक प्लेट्स के गतिशील होने एवं सेंडस्टोन के टूटने से इनका निर्माण हुआ। यहां जून से सितंबर के बीच जाना सबसे मुफीद होगा, क्योंकि तब सूर्य की तेज किरणें एवं हल्की बारिश से रंगों की अलग ही छटा बिखरती है।
कैसे पहुंचें: आप झांग्ये से टैक्सी लेकर नेशनल पार्क के करीब पहुंच सकते हैं। झांग्ये से दिन का टूर भी होता है।

गोक्यो लेक्स ट्रैक, नेपाल
nepal
gokyo-lakes-trek
एवरेस्ट बेस कैम्प की ट्रैकिंग करने के इच्छुक इस ट्रैक को एक्सफ्लोर कर सकते हैं। करीब 17,576 फ़ीट ऊंचाई पर स्थित गोक्यो री तक पहुंचने के लिए गोक्यो ताल का प्रयोग करना होता है। यहां से न सिर्फ हिमालय का विहंगम दृश्य दिखाई देता है, बल्कि लोत्से, मकालू एवं चो ओयु जैसी चोटियां भी नजर आती हैं। विश्व का सबसे विशाल हिमनद (ग्लेशियर) भी देख पाएंगे। जब आप इस ट्रैक पर निकलेंगे, तो रास्ते में पांच अल्पाइन लेक यानी ताल मिलेंगे।
कैसे पहुंचें: काठमांडू की किसी टूर कंपनी के साथ गोक्यो ताल ट्रैक की बुकिंग कर सकते हैं। इसके लिए आपको काठमांडू से लुक्ला की फ्लाइट लेनी होगी।

चॉकलेट हिल्स, फिलीपीन्स
chocolate-hills
फिलीपीन्स के बोहोल द्वीप के बीचोबीच स्थित चॉकलेट हिल्स कई छोटी-बड़ी पहाड़ियों का एक समूह है। एक अनुमान के अनुसार, यहां 1268 से लेकर 1776 पहाड़ियां हैं। इसमें सबसे ऊंची छोटी 120 मीटर है। शेष चोटियां 30 से 50 मीटर के बीच की हैं। यह समूह करीब 50 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। चॉकलेट हिल्स की खासियत है कि बारिश के मौसम में यह हरा-भरा नजर आता है। एक बार मौसम बदल, फिर यह भूरे रंग में तब्दील हो जाता है। भू-वैज्ञानिकों का मानना है कि जब कार्स्ट पत्थर टूटे, तब इस पर्वत का निर्माण हुआ। हालांकि स्थानीय स्तर पर कई अन्य लोक कथाएं भी प्रचलित हैं। यहां पर मनोरम बरसात में लगता है, उतना ही गर्मियों या सूखे दिनों में।
कैसे पहुंचें: बोहोल कि राजधानी तागबिलरन से इस पहाड़ी तक पहुंचा जा सकता है या फिर बस और कुछ पैदल चलकर यह दुरी तय कि जा सकती है।

माउंट केलिमुतु, इंडोनेशिया
mount-kelimutu-indonesia
केलिमुतु एक ज्वालामुखी है, जो इंडोनेशिया के फ्लोरेस आइलैंड के केलिमुतु नेशनल पार्क में स्थित है। यह चारों और से तीन झीलों से घिरा हुआ है, जो इस ज्वालामुखी से ही उत्पन्न हुई हैं। इन तीनों झीलों का जल अलग अलग रंगों का है, जो साल के अलग-अलग समय पर बदलता रहता है। तिवु झील ( लेक ऑफ़ ओल्ड पीपुल ) का रंग आसमानी नीला है, जबकि तिवु नुवा मुरी कु फाई का हरा और तिवु अटा पोलो का लाल। स्थानीय लोगों कि मान्यता है कि यह आत्माओं कि विश्रामस्थली है।
कैसे पहुंचें: माउंट केलिमुतु जाने के लिए पश्चिम फ्लोरेस से एंड तक कि फ्लाइट लेनी होगी। सड़क यात्री मोनी शहर तक के लिए बस ले सकते हैं।

हैंग सॉन डुंग केव, वियतनाम
hang-son-doong-cave
फॉन्ग न के बैंग नेशनल पार्क में स्थित हैंग सॉन डुंग गुफा दुनिया की सबसे बड़ी गुफा है। इसकी प्रमुख गुफा में बोइंग 747 विमान भी समा सकता है। कहते हैं कि वर्षों पहले एक तेज गति वाली नदी यहां से बहा करती थी। आगे चलकर इसने ही गुफा का स्वरूप ले लिया। इसलिए वियतनामी भाषा में माउंटेन रिवर केव भी कहते हैं। करीब पांच किलोमीटर लंबी, 200 मीटर ऊंची एंव 150 मीटर चौड़ी इस गुफा का 2003 में यूनेस्को ने विश्व विरासत स्थल के रूप में मान्यता दी थी।
कैसे पहुंचें: डॉन्ग होइ और हनोई से बसें फॉन्ग ना तक चलती हैं।


क्रेबी प्रांत, थाईलैंड
Ko-Lanta-Phi-phi-Island-Krabi-ProvinceThailand-11
क्रेबी प्रांत थाईलैंड के सबसे दक्षिणी प्रांतों में से एक है। यह लुभावनी विचार प्रस्तुत करता है, और एक परिदृश्य जो रॉक क्लाइम्बिंग के लिए आदर्श है। इसमें चूना पत्थर की चट्टानें भी हैं और यदि आप डाइविंग की कोशिश करना चाहते हैं, तो अंडमान समुद्रों के जल का पानी निराश नहीं करेगा।

संगक्लाबुरी, थाईलैंड
बांग्लादेश सीमा के करीब स्थित थाईलैंड में संगक्लाबुरी एक शांत शहर है। यह यात्रा करने के लिए एक शानदार जगह है, खासकर उन लोगों के लिए जो व्यस्त शहर के जीवन से कुछ समय बिताने की तलाश कर रहे हैं और पर्यटकों को एक स्वदेशी थाई अनुभव प्रदान करता है इस शहर में कई शानदार झरने हैं जैसे कि क्रेंग क्रैया झरना, और दाई चोंग पेटी झरना, दिन के ट्रेक के लिए महान है जंगल का उल्लेख नहीं करने के लिए।
Share:

0 comments:

Post a Comment